Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2016 · 1 min read

कविता :– इस झंडे का गुणगान करें !!

!! इस झण्डे का गुणगान करें !!!!

सब प्रांगण मे एकत्र हुए
फिर देश फिरंगी मुक्त किये ,
कारगर थी उपयुक्त नीति
जो मिली हमे संयुक्त जीत !
अजय अभय है निर्भय काया
निर्मल दामन जैसी छाया ,
सहस्त्र भुजाओ का बल देता
रक्त कणों से रंग कर आया !

हम अपना एक पल कुर्वान करें !
इस झण्डे का गुणगान करें !!

जाति धर्म और रंग रूप
ले जाती एक व्यथित कूप ,
धूप आंच और दूसित छाव
पीडा देते जख्मी घाव !
सदभाव भरा अपना जीवन
सच्चाई पे कर दे अर्पण ,
प्रेम भाव और भाईचारा
दूर करेगा जग अन्धियारा !

भाव भरा इन्सान बने !
इस झण्डे का गुणगान करें !!

ऐसे अमिट ये कदम चिन्ह
मुश्किल थोडे भिन्न-भिन्न ,
मन मे जब अनुभूति हुई
मौत यहां भयभीत हुई !
गम्भीर बडी तेरी रुधिर बूंद
सिद्धत पे शीश झुका देती ,
उबल पडे यूं प्रवल रुधिर
इज्जत पे शीश कटा देती !

झण्डे पर अभिमान करें !
इस झण्डे का गुनगान करें !!

ऊंच-नीच की बात ना हो
रंग भेद पे घात ना हो ,
जात नहीं इस झण्डे की
वो गम की काली रात ना हो !
लाल हरे मे कैसा दंगा
सबका अपना एक तिरंगा ,
रंग भरें दिल मे उमंग का
पथिक बनें हम प्रवल प्रचण्डा !

आओ इसका सम्मान करें !
इस झण्डे का गुणगान करें !!

विकट विराट इरादे अपने
साझा करते मीठे सपने ,
संग चलने संग बढने वाले
अमिट अडिग हम अड़नें वाले !
रंग भरा महके गुलशन
ये अमन चैन का देता जीवन ,
दामन खुशियों से भरने वाले….
मेरे सात जन्म तुझ पर अर्पण !

आओ खुद का बलिदान करें !
झण्डे का गुणगान करें !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 704 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
मत पूछो मुझ पर  क्या , क्या  गुजर रही
मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही
श्याम सिंह बिष्ट
"बेवकूफ हम या गालियां"
Dr Meenu Poonia
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
Ram Krishan Rastogi
ना जाने क्यों...?
ना जाने क्यों...?
भवेश
ग़म नहीं अब किसी बात का
ग़म नहीं अब किसी बात का
Surinder blackpen
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
आलाप
आलाप
Punam Pande
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यह आज है वह कल था
यह आज है वह कल था
gurudeenverma198
■ कविता / आह्वान करें...!!
■ कविता / आह्वान करें...!!
*Author प्रणय प्रभात*
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
Rj Anand Prajapati
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
'अशांत' शेखर
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*यह चिड़ियाँ हैं मस्ती में जो, गाना गाया करती हैं【हिंदी गजल/
*यह चिड़ियाँ हैं मस्ती में जो, गाना गाया करती हैं【हिंदी गजल/
Ravi Prakash
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...