Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 2 min read

कविता।तुमको इक दिन आना है ।

गीत।तुमको इक दिन आना है ।।

विश्वासों की पृष्टिभूमि पर
प्रेम का महल बनाया हूँ
भावों की नक्कासी करके
दुनियां को झुठलाया हूँ
फिर भी ख़ाली
ख़ाली सा यह
नीरस ताना बाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।1।।

आश्वाशन की राह चला मैं
मिली जीत न मुझको हार
अवसर पाकर करे बुराई
बेबस हृदय पर प्रहार
सह लूँगा हर
घाव हृदय पर
फिर भी मंजिल पाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।2।।

मन मन्दिर में बनी सीढ़ियां
सुखमय यादों तक जाती
बाट जोहती प्यासी आँखे
रह रह जब तब थक जाती
पलको से
ढरते है आँसू
कुछ दिन और बहाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।3।।

जिस दिन निकले चाँद गगन में
मेरी हँसी उड़ाता है
उगता सूरज आग बबूला
होकर मुझे जलाता है
पथ्थर तो मैं नही
परन्तु
पथ्थर ही बन जाना है ।
तुमको इक दिन पाना है ।। 4।।

अंधकार की नदी मोहिनी
उफनाती ले जल की धार
मैं तटबन्धों से प्रयासरत
तुम तो बसते हो उस पार
डरा नही
पर रुका रहूँगा
हठ की नाव चलाना है ।।
तुमको इक दिन आना है । 5।।

मेघ कपासी ठहर गये है
नयनो के भर आने से
मुस्काती है इंद्रधनुष भी
वर्षा के रुक जाने से
सन्नाटों के
कर्कश तानों
का भी दर्द उठाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।। 6।।

ये मत सोचो रहे फ़ासला
तो हो जाऊंगा भयभीत
है अटूट अनवरत निरन्तर
तेरे मेरे मन की प्रीत
प्रतिबिम्बों के
एक सहारे
सचमुच दिल हर्षाना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।7।।

इस समाज के थोथे बन्धन
झूठी परम्पराओं से
बधा हुआ यह गात अचेतन
तुम हृदय तक भावों से
भाव शून्य हो
शिखर बिंदु को
पाकर गले लगाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।8।।

धुँधली है काया तेरी
पर तुमसे है हर कोना
मेरे सपनो की दुनियां में
सजता रूप सलोना
दो इक दिन की
दूरी है फिर
तो तुममे मिल जाना है ।।
तुमको इक दिन आना है।।9।।

हे ईश्वर नित आशाओं का
उर में हो निर्माण
ताकि जीवन के अनुभव का
मिले मुझे प्रमाण
कृपा नेह से
अवनत सर को
चरणों में सदा झुकना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।10।।

©राम केश मिश्र

Language: Hindi
439 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्वास
विश्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
वो पुराने सुहाने दिन....
वो पुराने सुहाने दिन....
Santosh Soni
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
Ravi Prakash
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अधूरी हसरत
अधूरी हसरत
umesh mehra
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
2941.*पूर्णिका*
2941.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गोलू देवता मूर्ति स्थापना समारोह ।
गोलू देवता मूर्ति स्थापना समारोह ।
श्याम सिंह बिष्ट
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
DrLakshman Jha Parimal
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
Dr fauzia Naseem shad
आतंकवाद
आतंकवाद
नेताम आर सी
Loading...