Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कविता।तुमको इक दिन आना है ।

गीत।तुमको इक दिन आना है ।।

विश्वासों की पृष्टिभूमि पर
प्रेम का महल बनाया हूँ
भावों की नक्कासी करके
दुनियां को झुठलाया हूँ
फिर भी ख़ाली
ख़ाली सा यह
नीरस ताना बाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।1।।

आश्वाशन की राह चला मैं
मिली जीत न मुझको हार
अवसर पाकर करे बुराई
बेबस हृदय पर प्रहार
सह लूँगा हर
घाव हृदय पर
फिर भी मंजिल पाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।2।।

मन मन्दिर में बनी सीढ़ियां
सुखमय यादों तक जाती
बाट जोहती प्यासी आँखे
रह रह जब तब थक जाती
पलको से
ढरते है आँसू
कुछ दिन और बहाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।3।।

जिस दिन निकले चाँद गगन में
मेरी हँसी उड़ाता है
उगता सूरज आग बबूला
होकर मुझे जलाता है
पथ्थर तो मैं नही
परन्तु
पथ्थर ही बन जाना है ।
तुमको इक दिन पाना है ।। 4।।

अंधकार की नदी मोहिनी
उफनाती ले जल की धार
मैं तटबन्धों से प्रयासरत
तुम तो बसते हो उस पार
डरा नही
पर रुका रहूँगा
हठ की नाव चलाना है ।।
तुमको इक दिन आना है । 5।।

मेघ कपासी ठहर गये है
नयनो के भर आने से
मुस्काती है इंद्रधनुष भी
वर्षा के रुक जाने से
सन्नाटों के
कर्कश तानों
का भी दर्द उठाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।। 6।।

ये मत सोचो रहे फ़ासला
तो हो जाऊंगा भयभीत
है अटूट अनवरत निरन्तर
तेरे मेरे मन की प्रीत
प्रतिबिम्बों के
एक सहारे
सचमुच दिल हर्षाना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।7।।

इस समाज के थोथे बन्धन
झूठी परम्पराओं से
बधा हुआ यह गात अचेतन
तुम हृदय तक भावों से
भाव शून्य हो
शिखर बिंदु को
पाकर गले लगाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।8।।

धुँधली है काया तेरी
पर तुमसे है हर कोना
मेरे सपनो की दुनियां में
सजता रूप सलोना
दो इक दिन की
दूरी है फिर
तो तुममे मिल जाना है ।।
तुमको इक दिन आना है।।9।।

हे ईश्वर नित आशाओं का
उर में हो निर्माण
ताकि जीवन के अनुभव का
मिले मुझे प्रमाण
कृपा नेह से
अवनत सर को
चरणों में सदा झुकना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।10।।

©राम केश मिश्र

202 Views
You may also like:
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
माँ गंगा
Anamika Singh
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राफेल विमान
jaswant Lakhara
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math
निशां मिट गए हैं।
Taj Mohammad
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
कबीरा...
Sapna K S
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
पिता
Aruna Dogra Sharma
श्रृंगार
Alok Saxena
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...