Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 2 min read

कविता।तुमको इक दिन आना है ।

गीत।तुमको इक दिन आना है ।।

विश्वासों की पृष्टिभूमि पर
प्रेम का महल बनाया हूँ
भावों की नक्कासी करके
दुनियां को झुठलाया हूँ
फिर भी ख़ाली
ख़ाली सा यह
नीरस ताना बाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।1।।

आश्वाशन की राह चला मैं
मिली जीत न मुझको हार
अवसर पाकर करे बुराई
बेबस हृदय पर प्रहार
सह लूँगा हर
घाव हृदय पर
फिर भी मंजिल पाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।2।।

मन मन्दिर में बनी सीढ़ियां
सुखमय यादों तक जाती
बाट जोहती प्यासी आँखे
रह रह जब तब थक जाती
पलको से
ढरते है आँसू
कुछ दिन और बहाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।3।।

जिस दिन निकले चाँद गगन में
मेरी हँसी उड़ाता है
उगता सूरज आग बबूला
होकर मुझे जलाता है
पथ्थर तो मैं नही
परन्तु
पथ्थर ही बन जाना है ।
तुमको इक दिन पाना है ।। 4।।

अंधकार की नदी मोहिनी
उफनाती ले जल की धार
मैं तटबन्धों से प्रयासरत
तुम तो बसते हो उस पार
डरा नही
पर रुका रहूँगा
हठ की नाव चलाना है ।।
तुमको इक दिन आना है । 5।।

मेघ कपासी ठहर गये है
नयनो के भर आने से
मुस्काती है इंद्रधनुष भी
वर्षा के रुक जाने से
सन्नाटों के
कर्कश तानों
का भी दर्द उठाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।। 6।।

ये मत सोचो रहे फ़ासला
तो हो जाऊंगा भयभीत
है अटूट अनवरत निरन्तर
तेरे मेरे मन की प्रीत
प्रतिबिम्बों के
एक सहारे
सचमुच दिल हर्षाना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।7।।

इस समाज के थोथे बन्धन
झूठी परम्पराओं से
बधा हुआ यह गात अचेतन
तुम हृदय तक भावों से
भाव शून्य हो
शिखर बिंदु को
पाकर गले लगाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।8।।

धुँधली है काया तेरी
पर तुमसे है हर कोना
मेरे सपनो की दुनियां में
सजता रूप सलोना
दो इक दिन की
दूरी है फिर
तो तुममे मिल जाना है ।।
तुमको इक दिन आना है।।9।।

हे ईश्वर नित आशाओं का
उर में हो निर्माण
ताकि जीवन के अनुभव का
मिले मुझे प्रमाण
कृपा नेह से
अवनत सर को
चरणों में सदा झुकना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।10।।

©राम केश मिश्र

Language: Hindi
Tag: कविता
277 Views
You may also like:
गोवर्धन पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
थकते नहीं हो क्या
सूर्यकांत द्विवेदी
शून्य की महिमा
मनोज कर्ण
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
इन्साफ
Alok Saxena
उम्मीद का दामन थामें बैठे हैं।
Taj Mohammad
घुतिवान- ए- मनुज
AMRESH KUMAR VERMA
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
प्रेम
Kanchan Khanna
✍️कुछ चेहरे..
'अशांत' शेखर
इन्सान
Seema 'Tu hai na'
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कुछ भी तो ठीक नहीं
Shekhar Chandra Mitra
माई थपकत सुतावत रहे राति भर।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
" निरोग योग "
Dr Meenu Poonia
गाँधी जी की अंगूठी (काव्य)
Ravi Prakash
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
बारिश
Saraswati Bajpai
लोकतंत्र की पहचान
Buddha Prakash
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
बचे हैं जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
Loading...