Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 2 min read

कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)

स्वाभाविक तौर पर सब निर्जीव होता है
कोशिश करनी पड़ती है प्राण भरने की
जीवंत “बनाना” पड़ता है
होता नहीं है कुछ भी
कोशिश खत्म, जीवन खत्म
सक्रियता जीवन है, अशांति भी
शांत होना मृत होना है
कौन नहीं होना चाहता… शांत!
मृत ?
तुम कहोगे प्रेम जीवन्त है, शाश्वत है
मैं कहती हूँ, हाँ! हो सकता है
पर अस्थिर भी तो है
ठीक अन्य भावों की तरह
दुःख की तरह,
उमड़ता है, ठहरता है, बहता है, बिसरता भी
समस्त अस्थिर चीज़ें अपनी यात्रा में हैं,
यात्रा, मृत्यु की ओर, ख़त्म होने की ओर
जीवित “रखना पड़ता है”
कोशिश “करनी पड़ती है”
कोशिश खत्म, प्रेम खत्म,
जीवन खत्म
शेष बचती है मृत्यु
निर्जीवता
प्रेम भी बचा रहता, यदि मृत होता
प्रेम, मृत हो सकता है क्या ?
मृत मतलब स्थिर, मतलब पार्थिव
मतलब गतिहीन
मतलब जिसका होना न होना अघोषित हो,
अनियत, होता है क्या ?
नदियाँ, पेड़ प्रेम करते हैं क्या सूखने तक ?
जैसा कि हमें बताया गया है
तो क्या सहज स्वाभाविक घटना प्रेम है ?
स्वाभाविक तो मृत्यु होती है
सहज जीवन हो सकता है क्या ?
तो क्या जीवन मृत्यु के मध्य पुल है प्रेम ?
पुल बनाए जाते हैं, प्रेम तो नहीं
जिसे बनाना पड़े, जहाँ कोशिश हो
वहाँ स्वाभाविकता हो सकती है क्या ?
जो स्वाभाविक नहीं, सहज नहीं, प्रवाह में नहीं
प्रेम कैसे हो सकता है
जीवन हो सकता है क्या ? या मृत्यु
नहीं! या शायद हाँ!
पता नहीं!
जीवन, प्रेम, मृत्यु के मध्य और क्या क्या है ?
कितना कुछ है !
अनुभूतियाँ, विचार, भाव सब के सब…जैसे भँवर की ओर बहती नदी का हिस्सा हों
गोल गोल घूमते हुए
प्रवाहित होकर समा जायेंगे उसी नाभि में जहाँ से निकले थे
कोशिशें खत्म हो जाती हैं…एक दिन
जीवन भी
प्रेम भी
मृत्यु…?

1 Like · 1 Comment · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
*विश्वामित्र (कुंडलिया)*
*विश्वामित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
पूर्वार्थ
नारी के चरित्र पर
नारी के चरित्र पर
Dr fauzia Naseem shad
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
ख़ान इशरत परवेज़
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
'बुद्ध' ने दिया आम्रपाली को ज्ञान ।
'बुद्ध' ने दिया आम्रपाली को ज्ञान ।
Buddha Prakash
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"काँच"
Dr. Kishan tandon kranti
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
3013.*पूर्णिका*
3013.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐Prodigy Love-42💐
💐Prodigy Love-42💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
Loading...