Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2016 · 1 min read

कविकेगीत वसंतीऋतुमें पवने भीमनमोहितकरते( गीत)जितेंद्रकमलआनंद( पोस्ट७९)

गीत::
—— कविके गीत वसंतीऋतुमें पवने भी मन मोहित करते ।
ग्वाल – वाल ,राधिका – गोपियों से अंतस आनन्दित करते ।।

देख सूर्यको दिग्- दिगन्त छायी अरुणायी !
मोहन रंग रँगे ,फागुन प्रकटी तरुणायी ।
होली के घन गुलाल, बरसे ।
रंग विरंगे मोहित| करते । ।

मुरली मृदुस्पंदित श्रुति ,कृष्णा – जड़- चेतन में —
झूम — झूम प्रफुल्लित पुहुप ,- पराग ,मधुवन में।
कस्तूरी ,केसर ,चंदन प्राणों को प्रतिपल सुरभित करते ।

——- जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रभु श्री राम आयेंगे
प्रभु श्री राम आयेंगे
Santosh kumar Miri
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
पूर्वार्थ
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
जिसे तुम ढूंढती हो
जिसे तुम ढूंढती हो
Basant Bhagawan Roy
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
सर्द रातें
सर्द रातें
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
3509.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3509.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
Phool gufran
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
*प्रणय प्रभात*
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
अच्छा लगना
अच्छा लगना
Madhu Shah
*रामचरितमानस अति प्यारा (चौपाइयॉं)*
*रामचरितमानस अति प्यारा (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
Neelam Sharma
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...