Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

कल की किशोरी आज की नारी

कल की किशोरी
आज की नारी

मैं हूँ बच्ची, कल की किशोरी,
भविष्य की हूँ मैं समस्त नारी ||
मैं लक्ष्मी, मैं उमा, मैं हूँ शारदा,
जानो ये दुनिया मैंने ही सँवारी ||

सतरंगे लक्ष्य लेके मैंने जग को,
इंद्रधनुषी सप्त रंग से सजाए हैं ||
दिनकर की तेज़ लेके मैंने जग,
को जगमग-जगमग चमकाए हैं ||

मुझमें है गर चाँद-सी शीतलता,
तो देने को है अँधेरे में उजाला ||
मुझ में है गर गौमाँ-सी ममता,
तो देने को है घोर शर्द में ज्वाला ||

अनसूइया,गार्गी, सीता,सावित्री
की आत्मा मुझ में ही बसती है ||
लक्ष्मी बाई-सरोजनी-इंदरा गाँधी
की छाया मुझ पर ही उगती है ||

मुझमें देखो हैं कस्तुरबा गाँधी,
देखो मुझमें बैठी भक्त शारदा ||
मैं ही हूँ स्वर साम्राज्ञी लता मैया,
मुझमें है छुपी सुनीता चावला ||

मैं वीरांगना, मैं विदुषी, मैं सर्वज्ञा,
मैं सबला हूँ मेरी ओजस्वी कहानी ||
हाथों में है कटार, आँखों में अंगारे,
दिल में पाषाण, चपलता तूफ़ानी ||

मैं धरती, मैं सृष्टि, मैं हूँ प्रकृति,
मैं चाहूँ बालक को सज्ञान बना दूँ ||
मैं जननी, मैं धरणी, मैं निर्मात्री,
धरूँ लक्ष्य पुरूष को महान बना दूँ ||

मैं पुत्री, मैं भार्या, मैं ही हूँ माता,
चौतरफ़ा जग में है मेरा जलवा ||
मेरे ही इर्द-गिर्द सारा जग घूमता,
मेरी ही तूती चलती यश की हवा ||

नारी शक्ति, नारी देवी नारी नर-
नारी व जग की होती महतारी ||
प्रेम, करूणा, सम्मान, सेवा की
होती है जग में सच्ची अधिकारी ||

_____________________
दिनेश एल० “जैहिंद”
24. 01. 2017

Language: Hindi
414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाई स्कूल की परीक्षा सम्मान सहित उत्तीर्ण
हाई स्कूल की परीक्षा सम्मान सहित उत्तीर्ण
Ravi Prakash
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
वो टूटता तारा भी कितनों की उम्मीदों का भार लिए खड़ा है,
वो टूटता तारा भी कितनों की उम्मीदों का भार लिए खड़ा है,
Manisha Manjari
प्रभु की शरण
प्रभु की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
महाड़ सत्याग्रह
महाड़ सत्याग्रह
Shekhar Chandra Mitra
"ये दुनिया बाजार है"
Dr. Kishan tandon kranti
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
2661.*पूर्णिका*
2661.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
संघर्ष
संघर्ष
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज की तारीख़ में
आज की तारीख़ में
*Author प्रणय प्रभात*
कभी चुपचाप  धीरे से हमारे दर पे आ जाना
कभी चुपचाप धीरे से हमारे दर पे आ जाना
Ranjana Verma
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
यहाँ पर सब की
यहाँ पर सब की
Dr fauzia Naseem shad
छलते हैं क्यों आजकल,
छलते हैं क्यों आजकल,
sushil sarna
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
Loading...