Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

@@ कल किस ने देखा @@

लिख दो जो आज लिखना है,
कल किस ने देखा है यार
पता नहीं मौसम कैसा होगा
कहीं हो न जाएँ, बीमार !!

बात दिल की दिल में
न दबा के चले जाना
आना चाहे न आना
पर न बनाना, कोई बहाना !!

अश्को का क्या वो तो
यूं ही बहते रहेंगे
आप बस हमारे हैं
हम यह कहते रहेंगे !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
शेखर सिंह
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
घुली अजब सी भांग
घुली अजब सी भांग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
#बड़ा_सच-
#बड़ा_सच-
*Author प्रणय प्रभात*
3118.*पूर्णिका*
3118.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्रम दिवस
श्रम दिवस
SATPAL CHAUHAN
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
"बारिश की बूंदें" (Raindrops)
Sidhartha Mishra
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सितारे  आजकल  हमारे
सितारे आजकल हमारे
shabina. Naaz
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
=====
=====
AJAY AMITABH SUMAN
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
DrLakshman Jha Parimal
सच, सच-सच बताना
सच, सच-सच बताना
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...