Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2020 · 1 min read

कली खिलती नहीं यारों

दवाई इश्क़ की जग में, कहीं मिलती नहीं यारों।
बने जो ज़ख्म गर दिल पर,कहीं सिलती नहीं यारों।
मुहब्बत की डगर में तो, मिले दुश्वारियाँ लेकिन-
बिना भँवरे के बागों में, कली खिलती नहीं यारों।

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सब कुछ खत्म नहीं होता
सब कुछ खत्म नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
HAPPINESS!
HAPPINESS!
R. H. SRIDEVI
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
🙅नया नारा🙅
🙅नया नारा🙅
*प्रणय प्रभात*
2702.*पूर्णिका*
2702.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
तुम्हीं मेरा रस्ता
तुम्हीं मेरा रस्ता
Monika Arora
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
धृतराष्ट्र की आत्मा
धृतराष्ट्र की आत्मा
ओनिका सेतिया 'अनु '
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
???
???
शेखर सिंह
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
Loading...