Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2019 · 1 min read

कलरव

कलरव

पक्षियों का
कलरव
भा रहा है
मन को
हवा की
सांय-सांय
है कर्णप्रिय
इनके राग
नहीं हैं किसी
वाद से प्रेरित
नहीं हैं
सांप्रदायिक
नहीं हैं
जातिवादी
ये राग हैं
विशुद्ध प्राकृतिक
आज की
विकट परिस्थितियों
में भी

-विनोद सिल्ला©

Language: Hindi
175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" शिखर पर गुनगुनाओगे "
DrLakshman Jha Parimal
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*नदियाँ पेड़ पहाड़ (कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
Rj Anand Prajapati
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
मरने के बाद।
मरने के बाद।
Taj Mohammad
पहचान ही क्या
पहचान ही क्या
Swami Ganganiya
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
वज़ह सिर्फ तूम
वज़ह सिर्फ तूम
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
आप
आप
Bodhisatva kastooriya
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
Phool gufran
आस्था विश्वास पर ही, यह टिकी है दोस्ती।
आस्था विश्वास पर ही, यह टिकी है दोस्ती।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Madhu Shah
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
"बड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
#अजब_गज़ब
#अजब_गज़ब
*प्रणय प्रभात*
Perhaps the most important moment in life is to understand y
Perhaps the most important moment in life is to understand y
पूर्वार्थ
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
तू बेखबर इतना भी ना हो
तू बेखबर इतना भी ना हो
gurudeenverma198
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...