Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

कलयुग मे घमंड

में कैसा अभागा भक्त हूँ, में कुछ समझ नहीं पाया
सपने में आए प्रभु नृसिंह जी, में पहचान नही पाया
श्री नृसिंह भगवान् बोले, मेरे बेटे तुम डरना मत भाया
आज मे तुझसे मिलने, तेरे सपने में खुद चला आया

भगवान् का क्या रूप था, मैं वह सपना सबको सुनाता हूँ
सुबह – सुबह के मेरे सपने आये, प्रभु के दर्शन बतलाता हूँ
अस्त्र – सस्त्र नहीं हाथ मे, सिंह मुख से सुना शास्त्र बतलाता हूँ
मेरे प्रभु श्री नृसिंह जी की, कहीं हर बात मे सब को सुनाता हूँ

कलयुग में हिरण्यकश्यप सा दैत्य, अब मानव के मन में रहता है
सुबह – शाम, रात – दिन, घर के अन्दर, वह बाहर बढ़ता रहता है
धरती – आकाश, पशु – पक्षी से, अस्त्र शस्त्र से भी नही मरता है
कलयुग में अभिमानी ईर्ष्यालु, इस राक्षस का नाम घमंड होता हैं

श्री नृसिंह चतुर्दशी पर, भक्तों को भगत प्रह्लाद बनना ही होगा
अभिमानी ईर्ष्यालु राक्षस का वध, अपने मनमे प्रेम से करना होगा
बुराई पर अच्छाई की जीत का, प्रतीक श्री नृसिंह को मानना होगा
श्री नृसिंह जी का जयकारा, सभी मिलकर एक साथ करना होगा

🙏🙏🙏 ” “जय हो श्री नृसिंह भगवान् की ” “🙏🙏🙏

अनिल चौबिसा
9829246588

Language: Hindi
417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गलतियां
गलतियां
Dr Parveen Thakur
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
ज़िन्दगी सोच सोच कर केवल इंतजार में बिता देने का नाम नहीं है
Paras Nath Jha
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
Vishal babu (vishu)
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
Life is a rain
Life is a rain
Ankita Patel
कजरी लोक गीत
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
पूर्वार्थ
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
Weekend
Weekend
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
Ram Krishan Rastogi
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
"वो"
Dr. Kishan tandon kranti
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
Loading...