Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

*कलम (बाल कविता)*

कलम (बाल कविता)

क से कलम ज्ञान फैलाती
सदा काम लिखने के आती
कागज पर इससे हैं लिखते
अक्षर मोती-जैसे दिखते
कलमकार की कलम न झुकती
सच कहने से कभी न रूकती

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
2978.*पूर्णिका*
2978.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*Author प्रणय प्रभात*
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
माँ
माँ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यहाँ तो सब के सब
यहाँ तो सब के सब
DrLakshman Jha Parimal
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
तेरे बाद
तेरे बाद
Surinder blackpen
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
"नंगे पाँव"
Pushpraj Anant
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
💐प्रेम कौतुक-329💐
💐प्रेम कौतुक-329💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
तुमसे उम्मीद थी कि
तुमसे उम्मीद थी कि
gurudeenverma198
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
Dr. Rajeev Jain
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...