Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

” कलम की कोर से काजल , लगाता हूँ मैं कविता को “

******************************************
कलम की कोर से काजल , लगाता हूँ मैं कविता को ।
दिखा कर आइना दिल का , सजाता हूँ मैं कविता को ।
बहुत श्रद्धा सहित शब्दों , कि माला में पिरोकर के ,
नमन कर शारदे माँ को , सुनाता हूँ मैं कविता को ।
******************************************
वीर पटेल

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
243 Views
You may also like:
सिर्फ तेरा
Seema 'Tu hai na'
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
इंतजार है नया कैलेंडर (हास्य गीत)
Ravi Prakash
■ त्वरित टिप्पणी / बेपरवाह ई-मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
कल्पना ही कविता का सृजन है...
'अशांत' शेखर
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
पिता पराए हो गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
जब जख्म कुरेदे जाते हैं
Suryakant Chaturvedi
करूँगा तुमको मैं प्यार तब
gurudeenverma198
“मेरी ख्वाहिशें”
DrLakshman Jha Parimal
ख्वाब
Anamika Singh
राजनीति का सर्कस
Shyam Sundar Subramanian
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
औरत
shabina. Naaz
मैं बड़ा ही उलझा रहता हूं।
Taj Mohammad
जातिगत आरक्षण
Shekhar Chandra Mitra
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
किसी ने कहा, पीड़ा को स्पर्श करना बंद कर पीड़ा...
Manisha Manjari
सी डी इस विपिन रावत
Satish Srijan
शायरी
Shyam Singh Lodhi (LR)
राधा-मोहन
Pratibha Kumari
🌸🌼जाने कितने सावन बीत गए हैं🌼🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
कब तक
Kaur Surinder
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
हिचकियों का रहस्य
Ram Krishan Rastogi
कुछ तो है
मानक लाल"मनु"
तेरी खुशबू से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...