Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

कलम का वार तीखा हो

डुबोने नाव भारत की कई गद्दार बैठे हैं
मिटाने राष्ट्र गरिमा को लिए हथियार बैठे हैं।

रगो में खून खोले देख कर भद्दे इरादों को
भगाने दुश्मनों को देश से, तैयार बैठे हैं।

नमक खा कर हमारा, साथ गैरों का निभाते वो
जुबां को कुंद कर डालो, बने दमदार बैठे हैं।

कलम का वार तीखा हो, मरें लज्जा उन्हें आये
धरे अब हाथ पर यूँ हाथ, क्यों हम यार बैठे हैं।

कुचल कर विष-विषैलों का, उन्हें दूरी कहो कर लें
कभी मुड़कर इधर देखें न, खाये खार बैठे हैं।

1 Comment · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"संघर्ष "
Yogendra Chaturwedi
मैं आँखों से जो कह दूं,
मैं आँखों से जो कह दूं,
Swara Kumari arya
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
Neeraj Agarwal
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
Ravi Prakash
*सत्य*
*सत्य*
Shashi kala vyas
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
3354.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3354.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
याद रखते अगर दुआओ में
याद रखते अगर दुआओ में
Dr fauzia Naseem shad
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"आपका वोट"
Dr. Kishan tandon kranti
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
तुझसे मिलने के बाद ❤️
तुझसे मिलने के बाद ❤️
Skanda Joshi
Loading...