Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2022 · 1 min read

कर्म

गलती नहीं है ईश्वर की जिसने मनुज बनाया है
कर्म प्रधान जगत में जिसने जो बोया वो पाया है

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 1 Comment · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शाम
शाम
Kanchan Khanna
तुम्हारा प्यार साथ था गोया
तुम्हारा प्यार साथ था गोया
Ranjana Verma
आदतें
आदतें
Sanjay ' शून्य'
ये आरजू फिर से दिल में जागी है
ये आरजू फिर से दिल में जागी है
shabina. Naaz
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खमोशी
खमोशी
अखिलेश 'अखिल'
करोगे याद मुझको मगर
करोगे याद मुझको मगर
gurudeenverma198
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
■ कटाक्ष / दोगलापन
■ कटाक्ष / दोगलापन
*Author प्रणय प्रभात*
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
प्रिंसिपल सर
प्रिंसिपल सर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
10 Habits of Mentally Strong People
10 Habits of Mentally Strong People
पूर्वार्थ
वंदना
वंदना
Rashmi Sanjay
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
'अशांत' शेखर
मकसद कि दोस्ती
मकसद कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
Rajesh vyas
💐अज्ञात के प्रति-67💐
💐अज्ञात के प्रति-67💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...