Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 2 min read

*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*

कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव
_________________________
राज प्रकाश जी सर्वप्रथम टैगोर शिशु निकेतन में अध्यापक थे। जब हमने टैगोर शिशु निकेतन में कक्षा शिशु और प्रथम से लेकर कक्षा पॉंच तक की पढ़ाई की, तब राज प्रकाश जी हमें हिंदी पढ़ाते थे। हमारी हिंदी जैसी भी निखरी है, उसमें राज प्रकाश जी का योगदान नींव के पत्थर का रहा है। हिंदी के शब्दों के अर्थ, पर्यायवाची और विलोम शायद रोजाना का ही कार्य कक्षा में रहता था। राज प्रकाश जी सुलेख पर ध्यान देते थे। जिसके कारण सभी छात्रों का लेख अच्छा हो गया।

उस जमाने में कक्षा चार या पांच में हमने श्याम नारायण पांडे की हल्दीघाटी महाकाव्य की यह पंक्तियां कक्षा में पढ़-पढ़ कर ही कंठस्थ कर ली थीं :-

रण बीच चौकड़ी भर-भर कर चेतक बन गया निराला था/राणा प्रताप के घोड़े से पड़ गया हवा का पाला था

कविता लंबी थी, लेकिन मनोयोग से राज प्रकाश जी पढ़ाते थे। हमारा विचार और भावना भी महाराणा प्रताप और उनके चेतक के पराक्रम से जुड़ गई थी। अतः लंबी कविता कंठस्थ हो गई। टैगोर की ‘शिशु भारती’ में हमने उसे गाकर सुनाया था। अभी तक याद है।

जब हमने कक्षा छह में सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रवेश लिया, तब राज प्रकाश जी सुंदरलाल इंटर कॉलेज में नियुक्त हो गए। उन्हीं दिनों उनका विवाह हुआ था। राज प्रकाश जी कालांतर में अंग्रेजी के प्रवक्ता नियुक्त हुए तथा इस पद से उन्होंने वर्ष 2000 में अवकाश ग्रहण किया।

वह विद्यालय के संचालन की दृष्टि से पिताजी के सबसे अधिक भरोसेमंद व्यक्तियों में से थे। उन पर विश्वास किया जा सकता था। वह विश्वास के अनुरूप कार्य का परिणाम देने में सक्षम भी थे। दरअसल विद्यालय चलाने में कुछ ऐसे व्यक्तियों की आवश्यकता अवश्य पड़ती है जो भीतर के सभी कामों को सद्भावना के साथ शांतिपूर्वक अदा करने में सक्षम हों। इसके लिए ईमानदारी और बुद्धि-चातुर्य दोनों की आवश्यकता होती है। राज प्रकाश जी में यह दोनों गुण थे। उनके द्वारा प्रस्तुत किसी भी कागज पर अपने हस्ताक्षर करने में पिताजी को अधिक सोचने की आवश्यकता नहीं होती थी। इसीलिए उनका योगदान एक अध्यापक से भी बढ़कर माना जाएगा।
————————————-
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
*देखो मन में हलचल लेकर*
*देखो मन में हलचल लेकर*
Dr. Priya Gupta
"चित्तू चींटा कहे पुकार।
*Author प्रणय प्रभात*
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
फार्मूला
फार्मूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ख़्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
कवि रमेशराज
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
उस पद की चाहत ही क्या,
उस पद की चाहत ही क्या,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पाँव
पाँव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
Loading...