Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।

करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
लिए हृदय में सबके हित का, मानो नवल ख़ज़ाना है।।
किसी आरती में कल्याण छिपा, जिसको सब ही गाते हैं;
शुरभि भरे जो हर आँगन में, यह गुलशन का गाना है।।

#आर. एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
अरे वो बाप तुम्हें,
अरे वो बाप तुम्हें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दीप ऐसा जले
दीप ऐसा जले
Kumud Srivastava
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
Vishal babu (vishu)
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
*विश्वामित्र (कुंडलिया)*
*विश्वामित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
Subhash Singhai
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
Buddha Prakash
I want to tell you something–
I want to tell you something–
पूर्वार्थ
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
हौसले हमारे ....!!!
हौसले हमारे ....!!!
Kanchan Khanna
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
◆आज की बात◆
◆आज की बात◆
*Author प्रणय प्रभात*
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
Loading...