Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

करीब आने नहीं देता

करीब आने नहीं देता मुझे
दूर जाने से भी डरता है !

यह कैसा महबूब है यार
कैसी मोहब्बत करता है !!

✍कवि दीपक सरल

Language: Hindi
1 Like · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
Shekhar Chandra Mitra
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
बुद्ध वचन सुन लो
बुद्ध वचन सुन लो
Buddha Prakash
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
होली रो यो है त्यौहार
होली रो यो है त्यौहार
gurudeenverma198
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
मेरा महबूब आ रहा है
मेरा महबूब आ रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
उम्र आते ही ....
उम्र आते ही ....
sushil sarna
काम,क्रोध,भोग आदि मोक्ष भी परमार्थ है
काम,क्रोध,भोग आदि मोक्ष भी परमार्थ है
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी बात अलग
मेरी बात अलग
Surinder blackpen
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
2894.*पूर्णिका*
2894.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-517💐
💐प्रेम कौतुक-517💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
सत्य कुमार प्रेमी
तूफां से लड़ता वही
तूफां से लड़ता वही
Satish Srijan
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
Er.Navaneet R Shandily
Loading...