Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2017 · 1 min read

करवा चौथ पर यह कैसा मजाक

कल करवा चौथ के दिन को
चैनल वालो ने मजाक बना दिया
चाँद कब निकले गा, कब नहीं
उस का हर शेहर में भुरता बना दिया !!

कौन कितना सज रही है,
किस को किस उपहार से नवाजा है
उस के पति ने, खुलासा करवाने
के लिए लोगो का बैंड बजा दिया !!

इस का कितना बुरा असर होगा
किस कि मानसिकता कैसी होगी
किस का कितना बलबुत्ता है
कौन पति से क्या लेगी !!

किस के पति कि क्या हैसियत है
बेचारा पता नहीं किस लायक है
उपहार देने से ही क्या प्यार बढेगा
सब कम पूंजी वालो को निचा दिखा दिया !!

हर पत्नी के दिल में यह सब देख कर
जरूर ऐसा विचार कभी तो आएगा
कब मुझे भी मिलेगा ऐसा तोह्फ्फा
जैसा चैनल वालो ने रात दिखाया था !!

महंगाई के इस मौसम में घर चल जाये तो
उस से बड़ा तोह्फ्फा पत्नी के लिए पति का क्या होगा
सारा सारा दिन धक्के खा खा कर जो पैसा जोड़ता होगा
बंद करो यह अमीरों वाला ,हमें हमारे हाल का सहारा होगा !!

कविअजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
■
■ "टेगासुर" के कज़न्स। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Aksar rishte wahi tikte hai
Aksar rishte wahi tikte hai
Sakshi Tripathi
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
तू भूल जा उसको
तू भूल जा उसको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ये गजल नही मेरा प्यार है
ये गजल नही मेरा प्यार है
Basant Bhagawan Roy
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
समय की गांठें
समय की गांठें
Shekhar Chandra Mitra
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
Shweta Soni
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...