Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 1 min read

करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में

करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में ।
तो पहले हमसे रिश्ता तुम नहीं करते।।
नहीं खेलते यदि तुम मेरे दिल से।
तो हम शिकायत तुमसे नहीं करते।।
करना था यदि ऐसा ——————–।।

देखी नहीं क्यों मुफलिसी मेरी पहले।
मेरे करम और मेरी बस्ती।।
अच्छा नजर क्या आया था मुझमें।
देखी नहीं क्यों पहले मेरी हस्ती।।
सौदा अगर तुम्हें करना था रिश्ते में।
तो तुम मुलाक़ात हमसे नहीं करते।।
करना था यदि ऐसा ———————-।।

छुपाकर रखी क्यों तुमने दिल की बात।
बताये नहीं क्यों शौक हमको अपने।।
समझा क्यों पहले तुमने हमको साथी।
बताये नहीं क्यों सपनें हमको अपने ।।
बता देते यदि पहले हमें राज़ दिल का।
तो हम गुजारिश तुमसे नहीं करते।।
करना था यदि ऐसा ———————-।।

हम इस महफ़िल में लोगों से कहे क्या।
तारीफ़ करें या कहें बेवफा तुमको।।
पिला दिया तुमने तो हमें विष का प्याला।
करें पेश तोहफा, यहाँ क्या तुमको।।
करते नहीं यदि खून मेरे दिल का।
तो हम बुराई तेरी यहाँ नहीं करते।।
करना था यदि ऐसा ———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला – बारां (राजस्थान )

Language: Hindi
Tag: गीत
144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
Rj Anand Prajapati
"वेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
आहत हूॅ
आहत हूॅ
Dinesh Kumar Gangwar
11-🌸-उम्मीद 🌸
11-🌸-उम्मीद 🌸
Mahima shukla
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
मेरी बात अलग
मेरी बात अलग
Surinder blackpen
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
महफिले सजाए हुए है
महफिले सजाए हुए है
Harminder Kaur
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
.........?
.........?
शेखर सिंह
युगों    पुरानी    कथा   है, सम्मुख  करें व्यान।
युगों पुरानी कथा है, सम्मुख करें व्यान।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...