#21 Trending Author
Sep 20, 2016 · 1 min read

कम न अब आँक बेजुबानी को

कम न अब आँक बेजुबानी को
पढ़ लिखी दिल पे इस कहानी को

प्यास अपनी कभी न बुझ पाई
पी लिया आँख के भी पानी को

कितनी ऊँची उड़ान भर ले तू
पर नहीं भूल सावधानी को

गलतियों को सुधार ले अपनी
रो नहीं बैठ कर पुरानी को

खो गया कार्टून में बचपन
जानता वो न राजा रानी को

‘अर्चना’ लाख कोशिशें कर ले
रोक सकता न तू जवानी को
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 140 Views
You may also like:
प्रेम
Dr.sima
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...