Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं——- गज़ल

कमी हिम्मत में कुछ रखती नहीं मैं
बहुत टूटी मगर बिखरी नहीं मैं

बड़े दुख दर्द झेले जिंदगी में
मैं थकती हूँ मगर रुकती नहीं मैं

खरीदारों की कोई है कमी क्या
बिकूं इतनी भी तो सस्ती नहीं मैं-

रकीबों की रजा पर है खुशी अब
न आये वो मगर लडती नहीं मैं

बडे दिलकश फिजायें थी जहां में
लुभाया था मुझे भटकी नहीं मैं

मुहब्बत का न वो इजहार करता
मगर आँखों में क्यों पढती नहीं मैं

अगर चाहूँ फलक को भी गिरा लूं
बिना पर के मगर उड़ती नहीं मैं

थपेडे ज़िन्दगी के तोड़ देते
नहीं इतनी भी तो कच्ची नहीं मैं

मैं खुद की सोच पर चलती हूँ निर्मल
किसी के जाल में फंसती नहीं मैं

1 Like · 3 Comments · 336 Views
You may also like:
आओ तुम
sangeeta beniwal
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
प्रकृति की नज़ाकत
Dr. Alpa H. Amin
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
तीन किताबें
Buddha Prakash
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
"अशांत" शेखर
वो
Shyam Sundar Subramanian
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
रसीला आम
Buddha Prakash
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
चित्कार
Dr Meenu Poonia
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
क्या नाम दे ?
Taj Mohammad
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
हमलोग
Dr.sima
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...