Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

कभी सोचा है …

सुनो,
इतना भी मुश्किल नहीं है जीना …
सोचो ,
जब भी कभी तुमने
अपने आपको अकेला महसूसा है
कितनी द्फ़े
डबडबाई आँखों से
बमुश्किल नज़रें चुरा कर आसमां की नीली रोशनी मे
सफेद बर्फ की चादरों सी बादलों मे बनते बिगड़ते
नामालूम जाने अनजाने चेहरों मे
किसी एक चेहरे को देख
खिलखिला कर हँसे हो बचपन की तरह …..
सचमुच इतना भी मुश्किल नहीं है जीना ….
सोचो ,
जब भी कभी तुम्हारा दंभ
अपने ही कोटर मे सिमटा देता था तुम्हें
कितनी द्फ़े
हौले हौले अपनी हथेलियों से अपने प्रिय की आँखों को
अचानक ढँक कर
जब कि वो भी तुम्हारी ही तरह सिमटा हुआ है खुद मे
बिल्कुल सुबह की नरमाई गुनगुनी धूप की तरह
मासूम सी उजली हंसी आई है तुम्हारे चेहरे पर…
सचमुच इतना भी मुश्किल नहीं है जीना ….

Language: Hindi
1 Like · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
Deepesh सहल
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
कवि रमेशराज
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
You have climbed too hard to go back to the heights. Never g
You have climbed too hard to go back to the heights. Never g
Manisha Manjari
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-210💐
💐प्रेम कौतुक-210💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
राम राज्य
राम राज्य
Shriyansh Gupta
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
"मीलों में नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
देशभक्ति का राग सुनो
देशभक्ति का राग सुनो
Sandeep Pande
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
आका के बूते
आका के बूते
*Author प्रणय प्रभात*
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
Loading...