Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

कभी सोचा था…

कभी सोचा था…

कभी सोचा था ,

उडते हुए परिंदे देखकर,

काश! मुझे भी होते पंख,

मै भी उडती फिजाओ में बाहें फैलाकर…

आसमानो से गिरती हुई बारिश की बूँदें ,

यूँ आकर गिरती इन गालों पे,

महक उठती ती प्यार की अंगडाई,

उँचाई रिमझिम बारिश की देखकर ,

मै भी बरसती फिजाओं में बाहें फैलाकर…

दूर से गुजरते थे वो विमान,

उम्मीदों के एहसास समेटकर,

मुझे भी उडना था उसके साथ,

हवाओं से बातें बतलाकर ,

मै भी गूंजती फिजाओं में बाहें फैलाकर…

सपनो कों आदत है ऊँचा उडने की,

पकडकर मेरा हाथ हरदम साथ चलने की

दिल की गहराईयो से दिल को छूने की,

यही आरजू हर वक्त होती है,

मै भी चलती फिजाओं में बाहें फैलाकर…

सौ . मनीषा आशिष वांढरे…

20 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
दुम
दुम
Rajesh
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
Readers Books Club:
Readers Books Club:
पूर्वार्थ
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
होता ओझल जा रहा, देखा हुआ अतीत (कुंडलिया)
होता ओझल जा रहा, देखा हुआ अतीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
"अजीब रवायतें"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
Anand Kumar
एकाकीपन
एकाकीपन
Shyam Sundar Subramanian
महाकाल
महाकाल
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...