Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-216💐

कभी सलाम भेजते नहीं कभी गुलाब भेजते नहीं,
इस दिल को मिले ख़ुशी कोई कलाम भेजते नहीं।

©® अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
ईद मुबारक़ आपको, ख़ुशियों का त्यौहार
ईद मुबारक़ आपको, ख़ुशियों का त्यौहार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेज़ार सफर (कविता)
बेज़ार सफर (कविता)
sandeep kumar Yadav
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
...........
...........
शेखर सिंह
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
मेरे   परीकल्पनाओं   की   परिणाम   हो  तुम
मेरे परीकल्पनाओं की परिणाम हो तुम
पूर्वार्थ
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
Sunil Suman
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमदम का साथ💕🤝
हमदम का साथ💕🤝
डॉ० रोहित कौशिक
परतंत्रता की नारी
परतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3243.*पूर्णिका*
3243.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
Ranjeet kumar patre
संवेदना
संवेदना
Shama Parveen
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
"मत भूलना"
Dr. Kishan tandon kranti
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
Introduction
Introduction
Adha Deshwal
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
Loading...