Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 21, 2016 · 1 min read

कभी वो बेरुखी करता कभी वो आजिज़ी करता

कभी वो बेरुखी करता कभी वो आजिज़ी करता
यही मेरी तमन्ना थी वो मुझसे आशिक़ी करता

वो जिसको देखकर सांसें हमारी थम सी जाती थी
नहीं थे दोस्ती लायक़ तो हमसे दुश्मनी करता

ये सारा शह्र पत्थर हो गया तुझसे बिछड़ते ही
मज़ा वो और होता तू बिछड़ कर वापसी करता

ये आँखें जो मुसलसल देखती है रास्ता तेरा
रुलाने को ही आ जाता तू आकर दिल्लगी करता

नज़ीर नज़र

216 Views
You may also like:
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
दिया
Anamika Singh
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
✍️माटी का है मनुष्य✍️
"अशांत" शेखर
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
पिता
Keshi Gupta
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
रोना भी बहुत जरूरी है।
Taj Mohammad
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
परदेश
DESH RAJ
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
Loading...