Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2016 · 1 min read

कभी वो बेरुखी करता कभी वो आजिज़ी करता

कभी वो बेरुखी करता कभी वो आजिज़ी करता
यही मेरी तमन्ना थी वो मुझसे आशिक़ी करता

वो जिसको देखकर सांसें हमारी थम सी जाती थी
नहीं थे दोस्ती लायक़ तो हमसे दुश्मनी करता

ये सारा शह्र पत्थर हो गया तुझसे बिछड़ते ही
मज़ा वो और होता तू बिछड़ कर वापसी करता

ये आँखें जो मुसलसल देखती है रास्ता तेरा
रुलाने को ही आ जाता तू आकर दिल्लगी करता

नज़ीर नज़र

514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसानियत का वजूद
इंसानियत का वजूद
Shyam Sundar Subramanian
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
गर्भपात
गर्भपात
Dr. Kishan tandon kranti
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
नेताम आर सी
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
Dr MusafiR BaithA
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Adha's quote
Adha's quote
Adha Deshwal
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता' शब्द है जीवन दर्शन,माँ जीवन का सार,
पिता' शब्द है जीवन दर्शन,माँ जीवन का सार,
Rituraj shivem verma
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
शेरनी का डर
शेरनी का डर
Kumud Srivastava
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Naushaba Suriya
■ समझदार टाइप के नासमझ।
■ समझदार टाइप के नासमझ।
*प्रणय प्रभात*
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
Loading...