Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2022 · 1 min read

कभी वक़्त ने गुमराह किया,

कभी वक़्त ने गुमराह किया,
कभी किया बेज़ान,
कभी वक्त ने आँख दिखाई,
कभी गिरा दिया सम्मान,
थके जरूर पर रुके नहीं,
वक़्त के आगे ये घुटने कभी टिके नहीं,
उदास जरूर हुआ पर हारा नहीं ये मन,
अभी भी दिल में बाकी है धडकन,
ठोकर से कितने मज़बूत होते है पैर,
वक़्त आने पर ये वक़्त को जरूर दिखायेंगे हम।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
7 Likes · 6 Comments · 396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
नफ़रत की आग
नफ़रत की आग
Shekhar Chandra Mitra
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Nishant prakhar
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कोई गैर न मानिए ,रखिए सम्यक ज्ञान (कुंडलिया)
कोई गैर न मानिए ,रखिए सम्यक ज्ञान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
फितरत
फितरत
Akshay patel
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
💐अज्ञात के प्रति-131💐
💐अज्ञात के प्रति-131💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
Loading...