Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2022 · 1 min read

कभी वक़्त ने गुमराह किया,

कभी वक़्त ने गुमराह किया,
कभी किया बेज़ान,
कभी वक्त ने आँख दिखाई,
कभी गिरा दिया सम्मान,
थके जरूर पर रुके नहीं,
वक़्त के आगे ये घुटने कभी टिके नहीं,
उदास जरूर हुआ पर हारा नहीं ये मन,
अभी भी दिल में बाकी है धडकन,
ठोकर से कितने मज़बूत होते है पैर,
वक़्त आने पर ये वक़्त को जरूर दिखायेंगे हम।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
6 Likes · 4 Comments · 150 Views
You may also like:
रुद्रा
Utkarsh Dubey “Kokil”
गलतफहमी है दोस्त यह तुम्हारी
gurudeenverma198
कर्म
Anamika Singh
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
VINOD KUMAR CHAUHAN
नेता पलटी मारते(कुंडलिया)
Ravi Prakash
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
उर्मिला के नयन
Shiva Awasthi
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
मैं सुहागन तेरे कारण
Ashish Kumar
देने वाला कोई और है !
Rakesh Bahanwal
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
होती हैं अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
स्वाभिमान से इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क की खुशबू में ।
Taj Mohammad
★सफर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कोरोना दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Sometimes
Suryakant Chaturvedi
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
भूख
Varun Singh Gautam
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...