Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।

कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
मुहब्बत भी सियासत की तरह क्यूं हो गई है।

2 Likes · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कदम चुप चाप से आगे बढ़ते जाते है
कदम चुप चाप से आगे बढ़ते जाते है
Dr.Priya Soni Khare
यायावर
यायावर
Satish Srijan
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
रूठते-मनाते,
रूठते-मनाते,
Amber Srivastava
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*Author प्रणय प्रभात*
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
माता शबरी
माता शबरी
SHAILESH MOHAN
व्हाट्सएप के दोस्त
व्हाट्सएप के दोस्त
DrLakshman Jha Parimal
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
I know people around me a very much jealous to me but I am h
I know people around me a very much jealous to me but I am h
Ankita Patel
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
Loading...