Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2023 · 1 min read

कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से

कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से दूर ले जाती हैं।
जिन पगडंडियों पर चलना सीखा, वो पगडंडियां भी अब नजरें चुराती हैं।
©®मनीषा मंजरी
Source- यादों की आहटें (coming soon)

1 Like · 332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
Mahendra Narayan
अंतर
अंतर
Dr. Mahesh Kumawat
सागर से दूरी धरो,
सागर से दूरी धरो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इतना रोई कलम
इतना रोई कलम
Dhirendra Singh
याद कब हमारी है
याद कब हमारी है
Shweta Soni
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
Ravi Prakash
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
2818. *पूर्णिका*
2818. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
हिंदी
हिंदी
नन्दलाल सुथार "राही"
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
#Om
#Om
Ankita Patel
🙅नया मुहावरा🙅
🙅नया मुहावरा🙅
*प्रणय प्रभात*
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
मेरा भारत
मेरा भारत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मां
मां
Sûrëkhâ
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं जिससे चाहा,
मैं जिससे चाहा,
Dr. Man Mohan Krishna
"अहसास मरता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...