Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

कभी जब आपका दीदार होगा

मुक्तक

122/2122/2122
कभी जब आपका दीदार होगा।
तभी पूरा अधूरा प्यार होगा।
कि होंगे हम तुम्हारे तुम हमारे,
तभी इज़हार औ’र इकरार होगा।

……..✍️सत्य कुमार प्रेमी

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Not longing for prince who will give you taj after your death
Not longing for prince who will give you taj after your death
Ankita Patel
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
शेखर सिंह
*बहुत जरूरी बूढ़ेपन में, प्रियतम साथ तुम्हारा (गीत)*
*बहुत जरूरी बूढ़ेपन में, प्रियतम साथ तुम्हारा (गीत)*
Ravi Prakash
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
माँ..
माँ..
Shweta Soni
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
■ अटल सत्य...
■ अटल सत्य...
*प्रणय प्रभात*
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
मुफ़लिसों को बांटिए खुशियां खुशी से।
मुफ़लिसों को बांटिए खुशियां खुशी से।
सत्य कुमार प्रेमी
2907.*पूर्णिका*
2907.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम की कहानी
प्रेम की कहानी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
लोट के ना आएंगे हम
लोट के ना आएंगे हम
VINOD CHAUHAN
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
Loading...