Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

*** कभी-कभी…..!!! ***

“” कभी-कभी सोचा करती हूँ मैं…
मेरा-तेरा साथ कब तक है, पता नहीं…!
हम में विकास की नशा इतनी प्रबल है…
कब कम होगा, कुछ पता नहीं…!
यदि तुम न हो तब….
हरियाली कौन लायेगा…?
शीतल समीर…
कब अतंर-आकूल मन हर्षायेगा…?
यदि तुम न हो तब…
स्वच्छ सांस कौन दिलायेगा…?
गर्म-तप्त हवाओं से…
राहगीर को कौन बचायेगा…?
ऑक्सीजन का सिलेंडर लिए…
कब तक जीवन-पथ तय कर पायेगा…?
कभी-कभी सोचा करती हूँ मैं…
मेरा-तेरा साथ कब तक है, कुछ पता नहीं…!

कुल्हाड़ी लिये हाथों में, मानव की…
जज़्बातों की इरादा, कुछ पता नहीं…!
यदि तुम न हो…
बरखा-रानी कब आयेगी, कुछ अनुमान नहीं…?
कोयल कुहूकेगी…
या मोर नाचेगी, कुछ पता नहीं…!
उपवन-कानन में, कुछ फुल खिलेंगे…
या भौंरे गुनगुनायेंगे, कुछ पता नहीं…!
मेरी मुस्कराहट की…
या खिलखिलाहट की दौर…
कब तक है, कुछ अंदाजा नहीं…!
तुम से कब तक लिपटी रहूँ…
मेरी कानों में, कुछ आहट नहीं…!
चूंकि… विकास से …
पलायन वेग की गति भी लांघ चुके हैं हम…!
चूंकि… विकास से…
पलायन वेग की गति को भी लांच चुके हैं हम…!!

*****************∆∆∆****************

Language: Hindi
111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सब कुछ दुनिया का दुनिया में,     जाना सबको छोड़।
सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
चाहिए
चाहिए
Punam Pande
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
2757. *पूर्णिका*
2757. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हमारे ख्याब
हमारे ख्याब
Aisha Mohan
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मोर
मोर
Manu Vashistha
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा यार
मेरा यार
rkchaudhary2012
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...