Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

कभी – कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,

कभी – कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
ये परवरिश तो मुझे आपकी नही लगती।

1 Like · 563 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बाल कविता मोटे लाला
बाल कविता मोटे लाला
Ram Krishan Rastogi
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
King of the 90s - Television
King of the 90s - Television
Bindesh kumar jha
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Omee Bhargava
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
प्रकृति और मानव
प्रकृति और मानव
Kumud Srivastava
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
*सुबह हुई तो गए काम पर, जब लौटे तो रात थी (गीत)*
*सुबह हुई तो गए काम पर, जब लौटे तो रात थी (गीत)*
Ravi Prakash
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
Rj Anand Prajapati
भक्ति- निधि
भक्ति- निधि
Dr. Upasana Pandey
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
"नजरों से न गिरना"
Dr. Kishan tandon kranti
*Loving Beyond Religion*
*Loving Beyond Religion*
Poonam Matia
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
जीवनदायिनी बैनगंगा
जीवनदायिनी बैनगंगा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Help Each Other
Help Each Other
Dhriti Mishra
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
महफिले लूट गया शोर शराबे के बगैर। कर गया सबको ही माइल वह तमाशे के बगैर। ❤️
महफिले लूट गया शोर शराबे के बगैर। कर गया सबको ही माइल वह तमाशे के बगैर। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
2718.*पूर्णिका*
2718.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#प्रभात_वंदन
#प्रभात_वंदन
*प्रणय प्रभात*
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
Loading...