Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

कभी कभी प्रतीक्षा

कभी कभी प्रतीक्षा
एक भटकाव है
एक भ्रम है
भूल है
जो एकतरफा है
वो घातक है
जो घातक है वो तत्क्षण त्यागने योग्य है
क्योंकि
वो किसी के कष्ट से अनभिज्ञ है
और कोई उसकी अनभिज्ञता से आहत…
उसका उदासीन होना ही मृत्यु है
उसे भूलना ही जीवन…
उसे याद रखना
स्वयं का दोहन है
स्वयं का शोषण है😅

69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
Pramila sultan
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*अनमोल हीरा*
*अनमोल हीरा*
Sonia Yadav
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
"फूल बिखेरता हुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मज़दूर दिवस
मज़दूर दिवस
Shekhar Chandra Mitra
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
Neelam Sharma
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
2452.पूर्णिका
2452.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
ऐ .. ऐ .. ऐ कविता
नेताम आर सी
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
Loading...