Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में

कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में मील का पत्थर साबित होता है।

पारस नाथ झा

189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ नेक सलाह। स्वधर्मियों के लिए। बाक़ी अपने मालिक को याद करें।
■ नेक सलाह। स्वधर्मियों के लिए। बाक़ी अपने मालिक को याद करें।
*प्रणय प्रभात*
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
Phool gufran
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
प्रकृति का भविष्य
प्रकृति का भविष्य
Bindesh kumar jha
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
Pramila sultan
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
"रहमत"
Dr. Kishan tandon kranti
"तुम्हारी गली से होकर जब गुजरता हूं,
Aman Kumar Holy
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...