Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,

कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
हमारी ज़िंदगी के फैसले खुद हम नहीं करते,,

85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
2902.*पूर्णिका*
2902.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये पल आएंगे
ये पल आएंगे
Srishty Bansal
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
■ निर्णय आपका...
■ निर्णय आपका...
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
Dr Shweta sood
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
*26 फरवरी 1943 का वैवाहिक निमंत्रण-पत्र: कन्या पक्ष :चंदौसी/
*26 फरवरी 1943 का वैवाहिक निमंत्रण-पत्र: कन्या पक्ष :चंदौसी/
Ravi Prakash
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
शिव मिल शिव बन जाता
शिव मिल शिव बन जाता
Satish Srijan
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं तेरी हो गयी
मैं तेरी हो गयी
Adha Deshwal
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...