Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2023 · 1 min read

कब तक

झूठ और असत्य के भ्रमजाल को फैलाया है आपने,
झूठे धर्म के फरेब का सच बताओगे कब तक ।

धर्म के नाम पर चिताएं जलाते रहे हो हर वर्ष,
बस्तियां जली इस नफ़रत में उन्हें बसाओगे कब तक ।

गांव, कस्बे, और शहर में फैला है देवालयों का जाल,
कण – कण में बसे भगवान को दिखाओगे कब तक ।

अबोध नौनिहालों को शिकार भी बनाते हो,
फैली है अशिक्षा चहुंओर दूर भगाओगे कब तक ।

समझ पराई अबला स्त्री को नौचते रहे हैं,
समाज के बहशी दरिंदों को जलाओगे कब तक ।

देश की तरक्की,खुशहाली में हिस्सा हमारा भी है,
उस तरक्की के फल का हिस्सा दिलाओगे कब तक ।

न्याय, समता, बंधुता, अखंडता की बात करती है प्रस्तावना,
उस संविधान की प्रस्तावना को लागू कराओगे कब तक ।

आर एस आघात
25 -10 – 2023

4 Likes · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
I can’t be doing this again,
I can’t be doing this again,
पूर्वार्थ
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay ' शून्य'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
*Author प्रणय प्रभात*
Sometimes you shut up not
Sometimes you shut up not
Vandana maurya
💐Prodigy Love-30💐
💐Prodigy Love-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
*हमारे बीच फिर बातें, न जाने कल को होंं न हों (हिंदी गजल/ गी
*हमारे बीच फिर बातें, न जाने कल को होंं न हों (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जय भगतसिंह
जय भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
माँ
माँ
shambhavi Mishra
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
AVINASH (Avi...) MEHRA
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
*हिन्दी बिषय- घटना*
*हिन्दी बिषय- घटना*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...