Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

कब टूटा है

कब टूटा है
आसमान से चाँद
टूटते तो
तारे हैं
अतृप्त अभिलाषाओं के
दिल के
आसमान से
@सुशील सरना /4-2-24

82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
भीड़ पहचान छीन लेती है
भीड़ पहचान छीन लेती है
Dr fauzia Naseem shad
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
Anil Mishra Prahari
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Sakshi Tripathi
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
Anil chobisa
राज्यतिलक तैयारी
राज्यतिलक तैयारी
Neeraj Mishra " नीर "
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विरह
विरह
Neelam Sharma
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
कवि दीपक बवेजा
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
Mukta Rashmi
"ब्रेजा संग पंजाब"
Dr Meenu Poonia
ईंट खोदकर नींव की, गिरा दिया निज गेह ।
ईंट खोदकर नींव की, गिरा दिया निज गेह ।
Arvind trivedi
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
3294.*पूर्णिका*
3294.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...