Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

कबीरा यह मूर्दों का गांव

कबीरा यह मूर्दों का गांव
उलटे पड़ेंगे सारे दांव…
(१)
फूल बांटने की कोशिश में
घायल होंगे तेरे पांव…
(२)
जैसे ही प्रेम-गीत गाएगा
करने लगेंगे कौए कांव…
(३)
जिनके लिए तू पेड़ बोएगा
छिन लेंगे वही तुझसे छांव…
(४)
सबको पार लगाने में ही
डूब जाएगी तेरी नांव…
(५)
सच के किसी साधक के लिए
बचा नहीं यहां कोई ठांव…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#Kabir #Nirgun #नसीहत
#निरगुन #निर्गुण_गीत #कबीर
#दार्शनिक_गीत #उपदेश #कटाक्ष

Language: Hindi
Tag: गीत
36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अवसर
अवसर
संजय कुमार संजू
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
"छिन्दवाड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट  हो गया है
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट हो गया है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ जय ब्रह्मांड 😊😊😊
■ जय ब्रह्मांड 😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
सत्य कुमार प्रेमी
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
Vishal babu (vishu)
आ रहे हैं बुद्ध
आ रहे हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
Y
Y
Rituraj shivem verma
बूंद बूंद से सागर बने
बूंद बूंद से सागर बने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Dheerja Sharma
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गायब हुआ तिरंगा
गायब हुआ तिरंगा
आर एस आघात
जीवन के सारे सुख से मैं वंचित हूँ,
जीवन के सारे सुख से मैं वंचित हूँ,
Shweta Soni
जन्मदिन की शुभकामना
जन्मदिन की शुभकामना
Satish Srijan
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
3455🌷 *पूर्णिका* 🌷
3455🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
Loading...