Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2022 · 1 min read

कन्या पूजन

कन्या पूजन

नव दुर्गा के नौ रूपों का
मैं करता कन्या पूजन
आई है मैया कन्या रूप में
मेरा जीवन हो गया पावन

आदर सहित मैया को मैंने
दिया है ऊँचा आसन
भक्ति भाव से पाँव पखारू
हो जाऊँ तुम पर अर्पण

लाल चुनरिया सर पर ओढाया
माथे कुमकुम टीका लगाया
फूलों की माला पहनाकर
हाथ जोड़ कर शीश झुकाया

मन की ज्योत जलाई मैंने
हृदय से आरती उतारी मैंने
हलवा पुरी का भोग लगा कर
श्रद्धा सुमन चढ़ाई मैंने

सौभाग्य होता मेरा मैया
होता जो तेरा सिंह वाहन
नतमस्तक हो बैठा रहता
करता नित्य ही दर्शन

दे दो आशीष मुझको मैया
मैं करता रहूँ तेरा वंदन
नव दुर्गा के नौ रूपों का
मैं करता कन्या पूजन

– आशीष कुमार
मोहनिया, कैमूर, बिहार

2 Likes · 693 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
2553.पूर्णिका
2553.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
.
.
*Author प्रणय प्रभात*
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
बुद्धिमान हर बात पर,
बुद्धिमान हर बात पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
पिता का यूं चले जाना,
पिता का यूं चले जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
लक्ष्य
लक्ष्य
Mukta Rashmi
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
जागे जग में लोक संवेदना
जागे जग में लोक संवेदना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
Loading...