Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

कन्या को जन्म दूँगी ….

कन्या को जन्म दूँगी ….
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

हाँ मैं कन्या को जन्म दूँगी
एक जीवन को खिलने दूँगी ….

कौन होते हो तुम निर्दयी
जो मेरी कोख का फैसला करोगे
बेटों की चाह ने अँधा किया
मैं तो मेरी नन्ही जान को पलने दूँगी …

जाने क्या दे दिया ऐसा बेटों ने
जो बेटी हो जायेगी तो छिन जायेगा
बेवज़ह बेटों के गुमान में फूले न समाते
‘माँ बनूँगी मैं’ कातिलों की न दाल गलने दूँगी …

स्त्री होने पे घिन तो तब होती है
जब एक स्त्री ही जन्मपूर्व ही मृत्यु देना चाहे
ऐसी निष्ठुर हृदया को पाषाण ही बना देते प्रभु !
है मुझमें इतनी शक्ति किसी की न चलने दूँगी ….

कौनसा वो वाचाल शास्त्र है
जिसने पुरुषों को शिरोधार्य कर
प्रकृति के सहज विकास को चुनौती दी
मेरी ममता को मैं न कभी छलने दूँगी …..

हाँ … मैं कन्या को जन्म दूँगी , दूँगी , दूँगी ….
…..
@डॉ. अनिता जैन ” विपुला “

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 173 Views
You may also like:
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
✍️हर लड़की के दिल में ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
महावर
Dr. Sunita Singh
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
तेरे रूप अनेक हैं मैया - देवी गीत
Ashish Kumar
बेटी दिवस की बधाई
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
श्राप महामानव दिए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
“ कोरोना ”
DESH RAJ
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ द्वारा ध्यान का आयोजन*
Ravi Prakash
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
वक़्त पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बढ़ती हुई भीड़
Shekhar Chandra Mitra
मैंने रोक रखा है चांद
Kaur Surinder
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
दूर निकल आया हूँ खुद से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...