Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2023 · 1 min read

कनि बुझू तऽ जानब..?

कनि बुझू तऽ जानब..?
~~°~~°~~°
युरोप अमेरिका सभ जाल बिछौलक ,
रूस युक्रेन में निरर्थक युद्ध करेलक ।
निजस्वार्थ लेल कतेको जान ओ लेलक ,
रूस पर मिलकेऽ ओ प्रतिबंध लगेलक।
असरि एकर भारत पर किछो नञ् ,
खत्म भेल पच्छिम केऽ दादागिरी।
कखन अहां ई सभ पहचानब..?
कनि बुझू तऽ जानब…!

भारत केऽ प्रतिष्ठा अहां जानू ,
कच्चा तेल रुस से खरीदैत अइ।
डीजल पेट्रोल आब निर्यात करैत अइ ,
रिफाइनिंग हब बनल एशिया केऽ।
अरब इराक सब नतमस्तक एकरा लग ?
खत्म भेल हेकरी खाड़ी देशक सभ।
कखन अहां ई सभ पहचानब..?
कनि बुझू तऽ जानब…!

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १८ /०१/२०२३
माघ,कृष्ण पक्ष,एकादशी ,बुधवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

4 Likes · 1 Comment · 345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अपने आप से भी नाराज रहने की कोई वजह होती है,
अपने आप से भी नाराज रहने की कोई वजह होती है,
goutam shaw
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
होली
होली
Dr Archana Gupta
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
पूर्वार्थ
"प्यार की कहानी "
Pushpraj Anant
मेरे सपने
मेरे सपने
Saraswati Bajpai
Love ❤
Love ❤
HEBA
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
🙅पहचान🙅
🙅पहचान🙅
*प्रणय प्रभात*
"साहित्यकार और पत्रकार दोनों समाज का आइना होते है हर परिस्थि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
गंगा से है प्रेमभाव गर
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD CHAUHAN
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
Buddha Prakash
"सितम के आशियाने"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन
जीवन
Neeraj Agarwal
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
स्त्री सबकी चुगली अपने पसंदीदा पुरुष से ज़रूर करती है
स्त्री सबकी चुगली अपने पसंदीदा पुरुष से ज़रूर करती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...