Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

कदर न हुई

जब तक रहे बन्दिशों मे कदर न हुई
हुई कदर भी यूँ की कोई खबर न हुई
****************************
मिलती रही हैं यूं दुश्वारियां हमसे कि
मिली ख़ुशी तो ख़ुशी पल भर न हुई
****************************
कपिल कुमार
29/07/2016

Language: Hindi
382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हज़ारों रंग बदलो तुम
हज़ारों रंग बदलो तुम
shabina. Naaz
जो भक्त महादेव का,
जो भक्त महादेव का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*कभी मन भीग जाता है, नयन गीला नहीं होता (मुक्तक)*
*कभी मन भीग जाता है, नयन गीला नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
3018.*पूर्णिका*
3018.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वतन
वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या करे कोई?
क्या करे कोई?
Shekhar Chandra Mitra
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यह तेरा चेहरा हसीन
यह तेरा चेहरा हसीन
gurudeenverma198
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
■ मुक्तक / दुर्भाग्यपूर्ण दृश्य
■ मुक्तक / दुर्भाग्यपूर्ण दृश्य
*Author प्रणय प्रभात*
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
हौसला
हौसला
Monika Verma
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
संघर्ष
संघर्ष
विजय कुमार अग्रवाल
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Who's Abhishek yadav bojha
Who's Abhishek yadav bojha
Abhishek Yadav
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
The OCD Psychologist
The OCD Psychologist
मोहित शर्मा ज़हन
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
अरशद रसूल बदायूंनी
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
विमला महरिया मौज
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
बारिश और उनकी यादें...
बारिश और उनकी यादें...
Falendra Sahu
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
Loading...