Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

कठपुतली ( #नेपाली_कविता)

न कुनै प्रगतिवादी चरित्र ,
न त्यस अनुरुपको
कुनै सोच, विचार र सिद्धान्त,
मात्र हल्लाबोलमा रमाउँछ,
टाई-सुटमा एउटा कठपुतली,
समय–समयमा नाटक मञ्चन गर्छ ।

न कुनै योगदान,
न त्यस अनुरुपको
कुनै क्रान्ति, जनसंघर्ष र बलिदान,
एक्लो सत्तापक्ष र प्रतिपक्ष दुई बन्छ,
टाई-सुटमा एउटा कठपुतली,
दोधारे पक्षपाती भूमिका संधै प्रदर्शन गर्छ ।

न कुनै अनुशासन,
न त्यस अनुरुपको
कुनै व्यवहार, आचरण र स्वभाव,
सत्तारस र सरकारमा लिप्त छ,
टाई-सुटमा एउटा कठपुतली,
आत्मा बेची पेटको गुलामी गर्छ ।

न कुनै विचारधारा,
न त्यस अनुरुपको
कुनै सत्यता, बहस र क्रियाकलाप,
मञ्चहरूमा ठीङ्ग उभिन्छ,
टाई-सुटमा एउटा कठपुतली,
मालिकको ईसारामा अस्वभाविक नृत्य गर्छ ।

न कुनै बौद्धिकता,
न त्यस अनुरुपको,
कुनै महानता, सचरित्रता र नैतिकता,
मित्र शक्तिको संधै विपक्षमा छ,
टाई-सुटमा एउटा कठपुतली,
संगै उभिनुको साटो टाउको माथि चढ्न खोज्छ ।
#दिनेश_यादव
कलंकी, काठमाडौं
२०८०/१०/१३
नोट: मधेश प्रज्ञा प्रतिष्ठानको बहुभाषिक कवि गोष्टिका लागि सम्प्रेषित कविता ।

Language: Nepali
1 Like · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
सलाह .... लघुकथा
सलाह .... लघुकथा
sushil sarna
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
कविता
कविता
Rambali Mishra
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
Shubham Pandey (S P)
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
कवि रमेशराज
* साधा जिसने जाति को, उसका बेड़ा पार【कुंडलिया】*
* साधा जिसने जाति को, उसका बेड़ा पार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
"गम का सूरज"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-130💐
💐अज्ञात के प्रति-130💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...