Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

कठपुतली का खेल

दुनिया में सुनो भाई इतनी है कहानी,
बचपन जवानी जरा, यही जिंदगानी।
यार दोस्त भाई बहन कुल परिवारा।
नाटक का खेल यहाँ जग में है न्यारा।

जीवन के मैदान में खेल यही चलता।
जाता श्मशान, कोई पलने में पलता । कठपुतली का खेल महज एक वो मदारी ।
उंगली से खींच रहा डोर है करारी ।

जैसे वो चराता वैसे विचर रहें हैं ।
महज एक भ्रम कि हम कर रहे हैं । हर दिन पहेली झूमती है जैसे,
युगों से कहानी यूँ ही घूमती है ऐसे ।

कवि चले जायेगें गवैया चले जायेगें, लेखक विचारक बजैया चले जाएँगे । जीवन की भाग दौड़ जरा तो विचार करो ।
जाना है जरूर जरा खुद से पुकार करो ।

बीती हुई साँसें कभी लौट के न आएंगी।
हम नहीं होगें बस कथाएं रह जायँगी।
अभी भी सबेरा चलो हरि से पुकार करें,
कर लें कमाई अपने पन की सवांर करें ।
-सतीश सृजन

Language: Hindi
876 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
फार्मूला
फार्मूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
बिटिया
बिटिया
Mukta Rashmi
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
sushil sarna
*मैं शायर बदनाम*
*मैं शायर बदनाम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"सोचिए जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
"परखना "
Yogendra Chaturwedi
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
Satish Srijan
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
Loading...