Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

“मनुज बलि नहीं होत है – होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका – वही अर्जुन वही बाण ! “

कई बार हमारे मित्रों ने पूछा की इस कथन का अर्थ क्या है

“मनुज बलि नहीं होत है – होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका – वही अर्जुन वही बाण ! ”

शास्त्रों में विदित है की जब श्री कृष्ण ” वैकुण्ठ” जा रहे थे तो अपनी १६००० पटरानियों को हस्तिनापुर पहुंचाने की जिम्मेवारी – अर्जुन पर छोड़ गए थे , और जब अर्जुन उनको द्वारिका से हस्तिनापुर ला रहे थे – तो बीच सफर में ही “भीलों” ने उन पटरानियों का अपहरण कर लिया ! वही गांडीव धनुष धारी अर्जुन जो महाभारत में सब को परास्त करने का पराक्रम रखता था. यहाँ कुछ भी नहीं कर पाया !

क्यों की – वही अर्जुन और वही उसका सामर्थ्य – बिना ईश्वर की कृपा और उनके साथ के “असहाय – बलहीन और पराजित” हो गया !

ऐसा अनुभव है और शास्त्रों में भी लिखा है – के जब तक ईश्वर की कृपा नहीं होती है और समय / ग्रह दशाएं अनुकूल नहीं होती – तो बलवान से बलवान व्यक्ति भी असहाय और निर्बल हो जाता है !

कोई भी व्यक्ति – चाहे कितना भी बलवान या सक्षम हो – थोड़े समय के लिए कुछ भी सोच कर खुश हो ले की सभी चीजें उनकी अपनी इक्षा से संचालित होती हैं –

पर – सब समय और ग्रहों की संरचना एवं ग्रह दशाओं के असर से ही संचालित होता है और अगर ईश्वरीय दिव्य आशीर्वाद / ईश्वर की अनुकम्पा नहीं हो तो उसे धराशायी होने में “बस एक क्षण लगता है

और यह ” शाश्वत सत्य” है !

Language: Hindi
326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शायर की मोहब्बत
शायर की मोहब्बत
Madhuyanka Raj
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
नेताम आर सी
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
सफर की यादें
सफर की यादें
Pratibha Pandey
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
Surinder blackpen
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
gurudeenverma198
2342.पूर्णिका
2342.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
बाल दिवस पर मेरी कविता
बाल दिवस पर मेरी कविता
Tarun Singh Pawar
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
// माँ की ममता //
// माँ की ममता //
Shivkumar barman
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Sakshi Tripathi
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
Loading...