Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

कई तो इतना भरे बैठे हैं कि

कई तो इतना भरे बैठे हैं कि
एकाध बूँद टपका ही देते हैं।
धीरे से, मौक़ा मिलते ही।
ज़हर, और क्या…!!

😢प्रणय प्रभात😢

1 Like · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनपढ़ प्रेम
अनपढ़ प्रेम
Pratibha Pandey
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
3226.*पूर्णिका*
3226.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी के सवाल का
ज़िंदगी के सवाल का
Dr fauzia Naseem shad
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मैं अपना जीवन
मैं अपना जीवन
Swami Ganganiya
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
*प्रणय प्रभात*
*जिन-जिन से संबंध जुड़े जो, प्रभु जी मधुर बनाना (गीत)*
*जिन-जिन से संबंध जुड़े जो, प्रभु जी मधुर बनाना (गीत)*
Ravi Prakash
जीवन
जीवन
Mangilal 713
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
राम समर्पित रहे अवध में,
राम समर्पित रहे अवध में,
Sanjay ' शून्य'
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
महफिले लूट गया शोर शराबे के बगैर। कर गया सबको ही माइल वह तमाशे के बगैर। ❤️
महफिले लूट गया शोर शराबे के बगैर। कर गया सबको ही माइल वह तमाशे के बगैर। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
Neeraj Mishra " नीर "
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
गंगा- सेवा के दस दिन (छठा दिन)
गंगा- सेवा के दस दिन (छठा दिन)
Kaushal Kishor Bhatt
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
Loading...