Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी

कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी

कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी

चरण कमल में ले लो मुझको , पावन हो मेरी फुलवारी

नंदनंदन मुझे चरण में ले लो , हो जाऊं बलिहारी

निर्धन पर हो दया प्रभु तेरी , दीनन के हितकारी

अहंकार से मुझे बचाना . रहूँ मैं चरण तुम्हारी

चन्दा सा तुम मुझे पावन कर दो , मैं तुम पर बलिहारी

मात – पिता को शीश नवायें , ऎसी हो नियति हमारी

धर्म मार्ग पर बढ़ता जाऊं , कृपा करो गिरिधारी

सत्कर्म राह दिखलाओ कान्हा , कृपा करो बनवारी

सरिता सा मुझे पावन कर दो , हे दीनन हितकारी

माया मोह से मुक्त करो प्रभु , हे प्रभु कृष्ण मुरारी

तेरी महिमा के गुण गाऊँ , हे नटनागर हे गिरिधारी

तेरा रूप मनोहर कान्हा , हे ग्वालन हितकारी

वंशी की धुन सभी को भाये , हे मनमोहन हे गिरिधारी

भक्ति मार्ग पर ले लो मुझको , तुम पर मैं बलिहारी

जीवन पावन कर दो मेरा , हे प्रभु कृष्ण मुरारी

मोक्ष मार्ग पर लाओ मुझको. मैं तुम पर बलिहारी

कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी

2 Likes · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
2606.पूर्णिका
2606.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
गुमनाम 'बाबा'
गीत- किसी से प्यार हो जाए...
गीत- किसी से प्यार हो जाए...
आर.एस. 'प्रीतम'
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
शेखर सिंह
"एक नया सवेरा होगा"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
"भेद-अभेद"
Dr. Kishan tandon kranti
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
Nilesh Premyogi
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
मेरे कुछ मुक्तक
मेरे कुछ मुक्तक
Sushila joshi
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
आज रात कोजागरी....
आज रात कोजागरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
बादल छाये,  नील  गगन में
बादल छाये, नील गगन में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
*रथ (बाल कविता)*
*रथ (बाल कविता)*
Ravi Prakash
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...