Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

औरों की उम्मीदों में

औरों की उम्मीदों में
जीवन जाया ना कर…
उम्मीदों के पूरा होते ही,
खामियों का सिलसिला शुरू हो जाएगा…. ✍️देवश्री पारीक ‘अर्पिता’

2 Likes · 398 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
तुम तो हो जाते हो नाराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Sometimes a thought comes
Sometimes a thought comes
Bidyadhar Mantry
" दीया सलाई की शमा"
Pushpraj Anant
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
हरेक मतदान केंद्र पर
हरेक मतदान केंद्र पर
*प्रणय प्रभात*
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
Shashi kala vyas
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
तुम से मिलना था
तुम से मिलना था
Dr fauzia Naseem shad
" सब किमे बदलग्या "
Dr Meenu Poonia
2344.पूर्णिका
2344.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बसंत
बसंत
manjula chauhan
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
मेरी फितरत है बस मुस्कुराने की सदा
मेरी फितरत है बस मुस्कुराने की सदा
VINOD CHAUHAN
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...