Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

औरतों की तालीम

अगर तुमको आगे बढ़ना है
तो किसी हालत में पढ़ना है!
दूसरों के बनाए हुए सांचे में
क्या अपने आपको गढ़ना है!!
तुम्हारी पिछली पीढ़ियों को
जिस मंज़िल पर रूकना पड़ा!
हर मुमकिन कोशिश करके
तुम्हें उससे ऊपर चढ़ना है!!
#IranProtests #Patriarchy
#Hijab #WomensRights
#equality #Feudalism

Language: Hindi
243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सबसे पहले"
Dr. Kishan tandon kranti
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"Always and Forever."
Manisha Manjari
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
"" *वाङमयं तप उच्यते* '"
सुनीलानंद महंत
गीत
गीत
Shiva Awasthi
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मृगनयनी
मृगनयनी
Kumud Srivastava
3256.*पूर्णिका*
3256.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
गुजरे हुए लम्हात को का याद किजिए
गुजरे हुए लम्हात को का याद किजिए
VINOD CHAUHAN
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दिल
दिल
इंजी. संजय श्रीवास्तव
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आवारा बादल
आवारा बादल
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...