Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

औरतें ऐसी ही होती हैं

औरतें मन से टूट कर भी
अपनों का सहती हैं ,

औरतें ज़िंदा रहकर भी
अपनों के लिए मरती हैं ,

औरतें भूखी रहकर भी
अपनों को पेट भरा है कहती हैं ,

औरतें दुखी रहकर भी
अपनों के आगे मुस्काती हैं ,

औरतें गालियां सुन कर भी
अपनो की रक्षा के लिए मंत्र बोलती हैं ,

औरतें वसीयत में हिस्सा ना होकर भी
अपनों की मुसीबत में अपने गहने तौलती हैं ,

औरतें ख़ास ओहदों पर होकर भी
अपनों के आगे आम ही कही जाती हैं ,

औरतें अपनी रक्षा हेतु किसी को आगे ना बढ़ता देखकर भी
अपनों की रक्षा के लिए चंडी बन जाती हैं ,

औरतें उपरी सब बातें सही होते हुए भी
अपनों के लिए इन सारी बातों को नकारती हैं ,

औरतें गलत ना होकर भी
अपनों के लिए ख़ुद को गलत स्वीकारती हैं ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवेदना प्रकृति का आधार
संवेदना प्रकृति का आधार
Ritu Asooja
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
2875.*पूर्णिका*
2875.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
Radhakishan R. Mundhra
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या देखा
क्या देखा
Ajay Mishra
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ज़िंदगी से गिला
ज़िंदगी से गिला
Dr fauzia Naseem shad
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
सतत् प्रयासों से करें,
सतत् प्रयासों से करें,
sushil sarna
मनमीत
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
दोस्त अब थकने लगे है
दोस्त अब थकने लगे है
पूर्वार्थ
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...