Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

औकात

इंसान बदल जाता है जरूरत बदल जाती है।
गुजरते वक्त के साथ ही आदत बदल जाती है।
फरमाते है सुलूक अब भी वो तहजीब से लेकिन,
मतलब बदलते ही क्यों फितरत बदल जाती है।

महफिल में आपकी अहमियत बदल जाती है,
जब निस्बत की हुबहू सूरत बदल जाती है।
मुस्कुरा कर मिलते है सभी मुझसे आजकल,
सच हैसियत जो बदले कीमत बदल जाती है।

रोज गिरगिट के जैसे क्यों रंगत बदल जाती है,
हसीन तितलियों की जैसे सीरत बदल जाती है।
पास जब कुछ नही,तो कहां था कोई अपना,
क्यूं वक्त के बदलते मोहब्बत बदल जाती है।

चंद रुपयों के खातिर जब नीयत बदल जाती है।
तब इंसानों की अक्सर इंसानियत बदल जाती है।
है मोहब्बत को मापने का क्या सटीक ये पैमाना,
ये होती है तभी अपनी जब शौहरत बदल जाती है।

सब कुछ बदल जाता है जब दौलत बदल जाती है।
तब आदमी दर आदमी हैसियत बदल जाती है।
जो उठाते थे उंगलियां,मुफलिसी मेरी देखकर,
अब औकात मेरी देखकर इज्जत बदल जाती है।
@साहित्य गौरव

Language: Hindi
3 Likes · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅एक न एक दिन🙅
🙅एक न एक दिन🙅
*Author प्रणय प्रभात*
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
Rap song (1)
Rap song (1)
Nishant prakhar
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
डी. के. निवातिया
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
★रात की बात★
★रात की बात★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
मेरी आत्मा ईश्वर है
मेरी आत्मा ईश्वर है
Ms.Ankit Halke jha
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
Sanjay ' शून्य'
2440.पूर्णिका
2440.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
चौबीस घन्टे साथ में
चौबीस घन्टे साथ में
Satish Srijan
मैं नारी हूं...!
मैं नारी हूं...!
singh kunwar sarvendra vikram
"सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...