Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2019 · 1 min read

ओस की बूंदें और बेटियां

✍️कविता
ओस की बूंदें और बेटियां,
एक तरह से एक जैसी होती हैं।
जरा सी धूप, दुख से ही मुरझा जाती हैं।
लेकिन दे जाती हैं जीवन,
बाग बगीचा हो या रिश्तों की बगिया।
ओस और बेटियां होती हैं,
कुछ ही समय की मेहमान।
धूप के आते ही छुप जाती है ओस,
और,
समय के साथ बेटियां भी बन जाती हैं,
किसी की पत्नी, बहू, भाभी और मां।
जिसमें गुम हो जाती है बेटी की मासूमियत,
फिर भी दे जाती हैं ठंडक,
सीमित समय में भी, ओस की ही तरह।
ओस बरसती है खुली छत, खुले खेत में,
तो बेटियां महकती हैं,
देती हैं दुआएं, वरदान,
घर आंगन में तुलसी की तरह।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
"काँच"
Dr. Kishan tandon kranti
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*पार्क (बाल कविता)*
*पार्क (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हे!महादेव है नमन तुम्हें,
हे!महादेव है नमन तुम्हें,
Satish Srijan
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
2306.पूर्णिका
2306.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल की हक़ीक़त
दिल की हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
Godambari Negi
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
मैं ढूंढता हूं जिसे
मैं ढूंढता हूं जिसे
Surinder blackpen
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
Anil "Aadarsh"
■ अहमक़ आईने का सस्ता इलाज...
■ अहमक़ आईने का सस्ता इलाज...
*Author प्रणय प्रभात*
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
तनहाई की शाम
तनहाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
Loading...